Breaking News

नियमित नहीं हो रही फॉगिंग, मच्छरों का प्रकोप जारी लोग बेहाल

 

खबर दृष्टिकोण

महमूदाबाद/सीतापुर।

नगर में बदलते मौसम में मच्छरों का प्रकोप तेजी से बढ़ने लगा है। शाम होते ही मच्छर लोगों का जीना दूभर कर देते हैं। इस कारण महमूदाबाद नगर में मच्छरों के प्रकोप को देखते हुए मलेरिया और डेंगू जैसी गंभीर बीमारियों के फैलने की आशंका बढ़ गई है। इसके अलावा गंदगी भी मच्छरों के पनपना की मुख्य वजह है। नगर वासी मच्छरों से बचाव के लिए हर तरह का प्रयोग कर रहे हैं। हालांकि नगर वासियों ने नगर प्रशासन से फॉगिंग और एंटी लारवा का छिड़काव कराने की मांग की है। गर्मी के साथ ही मच्छरों का भी प्रकोप बढ़ने लगा है। नगर में नालियां गंदे पानी से उफनाती नजर आती हैं और पानी सड़क पर बहता रहता है। जगह-जगह पाइपलाइन लीकेज होने से पानी का जमावड़ा सड़क पर रहता है। बता दें कि नगर पालिका परिषद महमूदाबाद की ओर से फॉगिंग और एंटी लारवा का छिड़काव औपचारिक तौर पर कराया गया। अलबत्ता फिलवक्त बेअसर साबित हो रहा है। नियमित फॉगिंग नहीं होने के चलते भी मच्छरों का प्रकोप बढ़ा है। ऐसे में अगर कुछ वार्ड वासियों की माने तो एंटी लारवा का छिड़काव अब तक हुआ नहीं है। वही नगर के लोगों का कहना है की सफाई व्यवस्था दुरुस्त न होने के कारण मच्छरों का प्रकोप है। नालों की सही से सफाई नहीं कराई गई है इसे ही मच्छर पनप रहे हैं और फॉगिंग भी नियमित नहीं की जा रही है। घर हो या दुकान, हर जगह मच्छरों का आतंक बढ़ गया है। सुबह हो या शाम मच्छरों का हमला शुरू हो जाता है। इसके चलते संक्रमण का खतरा, बीमारी के भय से लोग दिन में भी मच्छरदानी एवं मच्छर भगाने वाले क्वायल का प्रयोग करते हैं।

दिलीप मिश्रा –

जो दवा का छिड़काव हो रहा है उससे मच्छर नहीं मर रहे हैं बहुत पहले डॉ. अम्मार रिजवी ने जिस प्रकार की दवाई हर घर में छिड़कवाई थी उसे प्रकार की दवाई का अगर छिड़काव हो जाए तो मच्छरों से काफी हद तक निजात मिल सकती है।

रामकुमार वर्मा –

अमीर लोग तो दवा छिड़काव, क्वायल, अगरबत्ती का सहारा ले लेते हैं। मगर गरीब आदमी कहां से यह सब सुविधाएं लए, वह अपना जीवन यापन ही कर ले इतना ही बहुत है। इस समय मच्छरों का प्रकोप बहुत है नगर पालिका से कोई भी दवा का छिड़काव व फागिंग नहीं कराई गई है।

लतीफ-

बेहटा वार्ड में नगर पालिका की तरफ से कोई दवा छिड़काव नहीं हुआ और न ही सफाई कराई गई है इतना मच्छर है कि दिन में उठा ले जाए और वहीं पास में चीनी मिल होने के कारण ज्यादा मच्छर उत्पन्न हो रहे हैं, पानी भी दूषित है।

माइक्रोप्लान के तहत वार्डवार फॉगिंग की जा रही: ईओ

अधिशासी अधिकारी शैलेंद्र दुबे ने बताया कि मच्छरों के प्रकोप से होने वाली मरेलिया और डेंगू जैसी गंभीर बीमारी से छुटकारा पाने के लिए माइक्रोप्लान के तहत पालिका क्षेत्र के हर वार्ड में फॉगिंग लगातार की जा रही है।

About Author@kd

Check Also

ग्राम पंचायत गोहिलारी में निर्मित निराश्रित पशु आश्रय स्थल ग्रामीणों को साबित हो रहा सफेद हाथी

  खबर दृष्टिकोण सुदीप मिश्रा मिश्रित/ सीतापुर । निराश्रित पशुओं से कृषि फसलों की सुरक्षा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!